आँखों मे सैलाब नजर आया है,

अनजान थी दुनिया जिस से अब तक,

आज वही राज सरेआम बिखर आया है, 

वो जो कभी जीने का मकसद था हमारा,

छोटे-छोटे टुकड़ो मे वो टूटा ख्वाब नजर आया है, 

कुछ यूँ घेरा है यादोँ के भँवर ने इसे, 

कि फिर “रवि ” की आँखों मे सैलाब नजर आया है,

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s