अमीरों की बस्ती मे एक ज़लता

अमीरों की बस्ती मे एक ज़लता हुआ घर नजर आया है ,
आज फिर वो कयामत का मंजर नजर आया है ,
रोक सको तो रोक लो खुद को ढूबने से ऐ रेगिस्तान ,
की आज फिर “रवि” की आँखो मे समन्दर नजर आया है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s