नाकाम कोशिश है मुझे 

नाकाम कोशिश है मुझे आजमाने की,
कि समंदर आज भी सोचता है मुझे डुबाने की,
हम पंख नहीं हौसलों से उड़ते हैं,
हवाएं लाख साजिश कर लें “रवि” को गिराने की,
तू अपना है जो मुझे दर्द देता है वरना,
क्या जरूरत है मुझे ग़म मे भी मुस्कराने की,…..

image

तू उनका है ये उनको जता

तू उनका है ये उनको जता तो सही,भुल कर अपना हम रुठो को मना तो सही,जो बदल गया था बदल जायेगा बदलते वक्त की तरह,तू बदल खुद को पहले जैसा बना तो सही,…

Source: तू उनका है ये उनको जता

अमीरों की बस्ती मे एक ज़लता

अमीरों की बस्ती मे एक ज़लता हुआ घर नजर आया है ,
आज फिर वो कयामत का मंजर नजर आया है ,
रोक सको तो रोक लो खुद को ढूबने से ऐ रेगिस्तान ,
की आज फिर “रवि” की आँखो मे समन्दर नजर आया है।

तेरी आंखे

गहरी तन्हा झील सी नजर आती है तेरी आंखे ,
तू लाख छुपाये पर सारा राज बताती है तेरी आंखे,
है छेड़ती जब हवा तेरी जुल्फो को अपना समझ कर ,
छुप जाती है घट!ओ (जुल्फ) मे शर्माकर तेरी आंखे ,
आ जाती है तेरे चेहरे पर भी वो नूर की रौनक ,
आइने मे जो तुझे प्यार से  देखे तेरी  आंखे,
बेखौफ़ रहता है तेरी पलको से लिपट के ये काजल ,
जैसे हर बुरी नजर से उसे बचाती है तेरी आंखे,

तू उनका है ये उनको जता

तू उनका है ये उनको जता तो सही,
भुल कर अपना हम रुठो को मना तो सही,
जो बदल गया था बदल जायेगा बदलते वक्त की तरह,
तू बदल खुद को पहले जैसा बना तो सही,